News :

हमारे बारे में

( पंजीयन संख्या 50 /चित्तौड़गढ़/2013 )
अपनी माटी संस्थान परिचय

राजस्थान के चित्तौड़गढ़ जिले से संचालित साहित्य और संस्कृति के संवर्धन हेतु प्रतिबद्ध 'अपनी माटी संस्थान' एक पंजीकृत संस्था है ( पंजीयन संख्या 50 /चित्तौड़गढ़/2013 ) का औपचारिक गठन चार अगस्त, 2013 को हुआ। राजस्थान में अपनी गतिविधियों को क्रियान्वित करने के उद्देश्य से इसकी स्थापना की गयी है। यह गैर राजनैतिक और धर्मनिरपेक्ष पंजीकृत संस्थान है। त्रैमासिक ई-पत्रिका अपनी माटी ( ISSN 2322-0724 Apni Maatiभी अब इसी संस्थान के तहत प्रकाशित होगी। आप भी इस हेतु अपनी मौलिक, अप्रकाशित और स्तरीय रचनाएं हमें ई-मेल से भेज सकते हैं। यह पत्रिका हर रोज 1000 पाठकों द्वारा देखी जाती है, जिससे अब तक सवा 10 लाख पाठक जुड़ चुके हैं। इसके अतिरिक्त हमने ख़ास कलाविदों और रचनाकारों के जीवन परिचय संचयन हेतु अपनी माटी पर्सनलिटीज नामक वेबसाइट और हमारे ऑडियो-विडियो संग्रह हेतु 'अपनी माटी रेडियो' भी संचालित कर रखी हैं। हम यथासम्भव हमारे चयनित आयोजनों में विमर्श प्रधान प्रस्तुति माटी के मीत और कविता पाठ प्रस्तुति किले में कविता को अपने उद्देश्यों तक पहुँचा रहे हैं। कुल मिलाकर इस मंच से साहित्य और संस्कृति के लगभग सभी पहलुओं के साथ युवाओं के सांस्कृतिक उन्नयन का प्रयास किया जाएगा।हमारे संस्थान से जुडी दो सोसायटियों के द्वारा कई युवा साथी सृजनरत हैं.चित्तौड़गढ़ आर्ट सोसायटी जो प्रति वर्ष एक बड़ा चित्तौड़गढ़ आर्ट फेस्टिवल का आयोजन करती है दूसरी चित्तौड़गढ़ थिएटर सोसायटी जिसने अभी अपना काम शुरू किया है.

हम इस बैनर के तहत भविष्य में जनपक्षधर विचारों को पोषित करने वाले आयोजनों में कविता कार्यशाला, रंगमंचीय प्रदर्शन, थिएटर कार्यशाला, प्रतिरोध से जुड़े फिल्म फेस्टिवल, कहानी-उपन्यास से सम्बद्ध संगोष्ठियों, राष्ट्रीय सेमीनार को अंजाम देने का मन रखते हैं। गौरतलब है कि हमारे साथी इस संस्थान को पूरी तरह से गैर-सरकारी और गैर-व्यावसायिक रवैये के साथ आगे बढ़ाने वाले मन के हैं। वर्तमान के इस साहित्यिक और सांस्कृतिक परिदृश्य को समृद्ध करते हुए आगामी सालों में कुछ सार्थक आयोजन उपजाने में आपके सहयोग की ज़रूरत है।आप वार्षिक चन्दा/सहयोग राशि पाँच सौ रुपये जमा कराके अपनी माटी की सदस्यता भी ले सकते हैं।साथ ही अगर आप नि:स्वार्थभाव से अपनी माटी को किसी तरह का अनुदान या वित्तीय सहयोग देना चाहते हैं तो भी आपका हार्दिक स्वागत है।

हमारा विधान 
  1. साहित्य, संस्कृति और समाज के सभी पहलुओं पर धर्मनिरपेक्ष, गैर -राजनैतिक और साझेदारी के ढ़ंग से कार्य करना। 
  2. साहित्य-संस्कृति की पत्रिका और पुस्तकों का प्रकाशन करना।
  3. स्थानीय से राष्ट्रीय स्तर की संगोष्ठी और फिल्म फेस्टिवल का आयोजन, संयोजन और क्रियान्वयन करना।
  4. जनपक्षधरता पर केन्द्रित रंगमंचीय प्रदर्शन, कार्यशाला और संवाद बैठकों का आयोजन करना।
  5. अव्यावसायिक रवैये वाले समानान्तर संस्थानों के साथ संयुक्त तत्वावधान में समाज सापेक्ष गतिविधियों का आयोजन करना।
  6. वर्तमान परिदृश्य को समृद्ध करते हुए युवाओं के हित राष्ट्रीय पहचान के व्यक्तित्वों को आमंत्रित कर आयोजन रचना।
  7. औपचारिकतारहित, उद्देश्यकेन्द्रित और गैर-बराबरी को हतोत्साहित करती गोष्ठियों का आयोजन।
  8. सामाजिक समरसता के हित अन्य कोई गतिविधियाँ।
  • अभी तक के आयोजन 
  1. अपना आँगन (घर आए मेहमान ) डॉ नन्द भारद्वाज का चित्तौड़ में उदबोधन 
  2. कविता केन्द्रित आयोजन रतन सिंह महल में 'त्रिवेणी' आयोजन 
  3. विमोचनविषयक आयोजन खम्मा का विमोचन और उपन्यास पर संगोष्ठी
  4. सामयिक आयोजन उपन्यास  परम्परा और हाशिये के लोग संगोष्ठी रिपोर्ट 
  5. विमर्श प्रधान आयोजन 'माटी के मीत' आयोजन 
  6. कविता केन्द्रित आयोजन 'किले में कविता'
  7. अनौपचारिक संगोष्ठी 'आंगन में कविता'
  • अभी तक की प्रतिभागिता 
  1. 'लोकरंग' आयोजन
  2. राष्ट्रीय बाल साहित्यकार सम्मलेन ,सलूम्बर-2012
  3. 'आमद' पेंटिंग शो,मुम्बई

यहाँ आपका स्वागत है



ई-पत्रिका 'अपनी माटी' का 24वाँ अंक प्रकाशित


Donate Apni Maati

Bheem Yatra-2015

Follow by Email

Total Pageviews

 
Template Design by Creating Website Published by Mas Template